Mumbai में Haj house के रूफ़ टॉप से फहराया गया सबसे ऊंचा तिरंगा, मुख्तार अब्बास नक़वी ने किया हज 2019 का ऐलान…

0
25
राष्ट्र ध्वज सतह से 350 फुट की ऊंचाई पर लोगों को लहराता हुआ नजर आएगा
Mumbai में Haj house के रूफ़ टॉप से फहराया गया सबसे ऊंचा तिरंगा
Share

राष्ट्र ध्वज सतह से 350 फुट की ऊंचाई पर लोगों को लहराता हुआ नजर आएगा

– NDI24 नेटवर्क
मुंबई. केंद्रीय अल्पसंख्यक मंत्री मुख्तार नक़वी ने मुंबई के हज हाउस के रूफ़ टॉप से आज सबसे ऊंचे राष्ट्र ध्वज को फहराया। विदित हो किब इस विशाल तिरंगे का आकार 20×30 फुट है, जो 30 मीटर के उच्च मस्तूल यानी हाई मास्ट के सहारे फहराया गया। ये राष्ट्र ध्वज सतह से 350 फुट की ऊंचाई पर लोगों को लहराता हुआ नजर आएगा। जानकारों की मानें तो किसी भी इमारत के टेरेस पर फहराया जाने वाला ये राष्ट्र ध्वज अब तक का सबसे ऊंचा तिरंगा है, जिसकी मुख्य समुद्र तल से ऊंचाई 116 मीटर रखी गई है।

ऑनलाइन आवेदन की भी सुविधा…

आज हज 2019 का ऐलान किया गया। यह इसलिए खास रहा, क्योंकि पिछले वर्ष की तुलना में इस बार इसका ऐलान एक महीने पहले किया गया। इस बार सबसे ऊंचे तिरंगे को फहराने के साथ ही हज 2019 के आवेदन की ऑफलाइन प्रक्रिया 18 अक्टूबर से शुरू होकर 17 नवंबर तक जारी रहेगी। साथ ही इसकी ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया 18 अक्टूबर 2018 से शुरू हो जाएगी। हज के लिए आवेदन ऑनलाइन और मोबाइल एप के जरिए भी किए जा सकेंगे।गौरतलब है कि हज 2018 के लिए कुल 3 लाख 55 हजार 604 आवेदन मिले थे, जिनमें 1 लाख 89 हजार 217 पुरुष और 1 लाख 66 हजार 387 महिलाएं शामिल थीं। उन्होंने आगे कहा कि हज प्रक्रिया की शुरुआत तय समय से पहले होने से हाजियों को तो सुविधा होगी ही और साथ ही भारत व सऊदी अरब में हज यात्रा से संबंधित एजेंसियों को भी हज की तैयारी करने के लिए पर्याप्त समय मिल सकेगा,  जिससे हज प्रक्रिया को और बेहतर व सरल सुगम बनाया जा सकेगा।

इस बार 21 होंगे इम्बारकशन प्वाइंट्स…

उन्होंने आगे कहा कि नवंबर में एयरलाइंस के टेंडर की प्रक्रिया पूरी हो जाएगी, वहीं दिसंबर जनवरी तक सऊदी अरब में आवास लेने की प्रक्रिया भी पूरी कर ली हो जाएगी। साथ ही मक्का और मदीना में आवास के किराए 2018 के किराए के बराबर ही रखे जाएंगे सभी 20 इम्बारकेशन प्वाइंट्स चालू रखने के साथ कालीकट एयरपोर्ट से भी इस बार हज यात्रा की जा सकेगी। नकवी ने आगे कहा कि 2018 में बिना सब्सिडी के पहली हज प्रक्रिया को हाजियों के हित में पाया गया कि बिचौलियों एवं बेईमानी पर रोक रही कि सब्सिडी खत्म होने के बावजूद भी 2018 गैर जरूरी महंगा नहीं होने दिया गया

बड़ी संख्या में भारतीय जाएंगे हज…

वहीं कई वर्षों बाद 2018 हज के लिए हवाई किराए में रिकॉर्ड गिरावट हुई।  2017 में 1 लाख 24 हजार 852 हाजियों के लिए 1030 करोड़ रुपए एयरलाइंस कंपनियों को हवाई किराए के रूप में दिए गए थे, जबकि 2018 में हज कमेटी ऑफ इंडिया के माध्यम से जाने वाले एक लाख 28 हजार 702 हाजियों के लिए 973 करोड़ रुपए दिए गए, जो पिछले वर्ष के मुकाबले 57 करोड़ कम से कम है। हज 2018 सरल और सुगम रहा आजादी के बाद पहली बार रिकॉर्ड 1 लाख 75 हजार 025 भारतीय मुसलमान हज 2018 के लिए गए उम्मीद है कि इस वर्ष इस से ज्यादा संख्या में भारतीय मुसलमान हज यात्रा पर जा सकेंगे।
Share

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here