फर्जी कॉल सेंटर का भांडाफोड़, कर्ज दिलाने के नाम पर लोगों से करते थे ठगी…

0
121
पुलिस ने छापेमारी कर आठ को किया गिरफ्तार, जांच में जुटी नवी मुंबई की पुलिस...
फर्जी कॉल सेंटर का भांडाफोड़
Share


पुलिस ने छापेमारी कर आठ को किया गिरफ्तार, जांच में जुटी नवी मुंबई की पुलिस…

– NDI24 नेटवर्क

नवी मुंबई. कर्ज एवं बीमा देने के नाम पर लोगों को फंसाने के लिए संचालित फजीज़् कॉल सेंटर के खिलाफ  पुलिस ने छापेमारी करके इस फर्जीवाड़े का खुलासा किया है, लेकिन पुलिस की तरफ  से इस मामले का खुलासा एक हफ्ते बाद क्यों किया गया, पर सवाल खड़ा हो रहा है। आखिर कॉल सेंटर की जानकारी स्थानीय पुलिस को इससे पहले क्यों नहीं थी? हालांकि पुलिस ने उक्त कॉल सेंटर से 8 लोगों को गिरफ्तार किया है। नवी मुंबई शहर में भी इस तरह से कई ऐसी फर्जी कंपनियां सक्रिय हैं, जो दूर-दराज के रहने वाले गरीब एवं किसानों को फोन करके कर्ज दिलाने के नाम पर उन्हें फंसाने का काम कर रहे हैं।

खोले गए थे फर्जी एकाउंट…

कर्ज देने के नाम पर ठगी किए जाने की शिकायत नवी मुंबई सायबर सेल के पास मिलने पर अपराध शाखा के उपायुक्त तुषार दोषी, सहायक आयुक्त अजय कदम और साईबर शाखा के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक भाऊसाहेब गायकर के मार्गदर्शन में जांच शुरू की गई। फर्जी कॉल सेंटर कार्यालय से जरूरत मंद लोगों को फोन द्वारा ऋण या बीमा देने का आश्वासन दिया जाता था। इसके लिए बजाज अलायंस, रिलायंस सर्विसेज और अन्य कंपनियों के नाम का इस्तेमाल किया जाता है। इसके लिए फर्जी बैंक एकाउंट भी इन कंपनियों के नाम पर खोले गए थे।

30 हजार रुपये बरामद…

इनके जालसाजी में जो भी ग्राहक फंसता था, उससे कर्ज लेने के लिए पहले कुछ शर्तें रखी गई थीं, जैसे सर्विस टैक्स, सर्विस चार्ज, प्रोसिडिंग फीस के नाम पर उन्हें बैंक एकाउंट में डिपॉजिट भरने के लिए कहा जाता था और उस बैंक का एकाउंट नंबर दिया जाता था, जो बैंक दिल्ली, नोएडा एवं गाजियाबाद में है। इस मामले में गिरफ्तार लोगों में रोहित पार्टे (29), प्रशांत कोटीयन (28), नीलेश पडवळे (31), प्रवीण निंबाळकर (28), राहुल वैराल (26),  विक्रांत गजमल (29), परेश दीपकर (34), व सुमित सावंत (24) शामिल हैं। इनके कार्यालय से तीन लैपटॉप, 20 मोबाईल फोन व एक कम्प्यूटर समेत 30 हजार रुपए बरामद किया गया।

Share