किसी राजनीतिक दल से नहीं जुड़ेंगे संजय दत्त

0
7
पांच साल में फडणवीस सरकार ने कुछ नहीं किया: थोरात
Share

भाजपा सरकार में सहयोगी आरएसपी अध्यक्ष ने किया था यह दावा

– NDI24 नेटवर्क

मुंबई. अभिनेता संजय दत्त ने साफ कर दिया है कि फिलहाल ने किसी राजनीतिक दल से नहीं जुड़ रहे। गौरतलब है कि राष्ट्रीय समाज पक्ष (आरएसपी) अध्यक्ष और राज्य के कैबिनेट मंत्री महादेव जानकर ने रविवार को दावा किया था कि 25 सितंबर को संजय दत्त आरएसपी में शामिल हो सकते हैं। इसके बाद राजनीतिक गलियारों में कयासबाजी का दौर शुरू हो गया। संजय के बयान के बाद सभी अटकलबाजियों पर विराम लग गया है।

अभिनेता ने साफ कहा, मैं किसी पार्टी से नहीं जुड़ रहा। जानकर मेरे प्यारे दोस्त और भाई जैसे हैं। मैं उनको भविष्य के लिए शुभकामनाएं देता हूं। विदित हो कि राजनीति दत्त परिवार के लिए कोई नई नहीं है। संजय के पिता दिवंगत सुनील दत्त कांग्रेस सरकार में केंद्रीय मंत्री थे। उनकी बहन प्रिया यूपीए सरकार में केंद्रीय मंत्री रह चुकी हैं। 2019 के लोकसभा चुनाव में वे कांग्रेस प्रत्याशी थीं, जो भाजपा की पूनम महाजन से हार गईं। बहन प्रिया के लिए संजय ने प्रचार भी किया था।

सपा के महासचिव रहे

समाजवादी पार्टी (सपा) के महासचिव रहे हैं संजय। 2009 के लोकसभा चुनाव में सपा ने उन्हें लखनऊ से उम्मीदवार बनाया था। शस्त्र अधिनियम के तहत उनकी सजा कम करने से अदालत ने जब इंकार कर दिया, तब संजय चुनाव मैदान से हट गए थे।

काट चुके हैं सजा

उल्लेखनीय है कि 1993 के बम धमाके के समय अवैध हथियार रखने के मामले में शस्त्र अधिनियम के तहत अदालत ने संजय को पांच साल सजा सुनाई थी। अदालत ने जब फैसला सुनाया, उसके पहले ही ने 18 महीने जेल में रह चुके थे। बाकी साढ़े तीन साल की सजा भुगतने के लिए उन्हें पुणे की यरवदा जेल भेजा गया था। करीब पौने तील साल की सजा पूरी होने के बाद अदालत के आदेश पर 2016 में संजय को जेल से रिहा किया गया।

Share