क्रांतिकारी और आदिवासियों के महानायक बिरसा मुंडा की जयंती मनायी

0
139
क्रांतिकारी और आदिवासियों के महानायक बिरसा मुंडा की जयंती मनायी
Share

BSP ने निकाली बाईक रैली, महानायक के विचारों को जन-जन तक पहुंचाया

– NDI24 नेटवर्क 

पालघर. जिले में क्रांतिकारी और आदिवासियों के महानायक बिरसा मुंडा की जयंती मनाई गयी| इस अवसर पर जिले भर में बीएसपी की ओर से बाईक रैली निकाली गयी| और जिले के आदिवासी पाड़ों में जाकर महानायक के विचारों से लोगों में जनजागृती का संचार किया गया| इस अवसर पर सैकड़ों की संख्या में बीएसपी के युवा कार्यकर्ताओं द्वारा बाइक रैली निकाली गयी| उक्त अवसर पर बहुजन समाजपार्टी के नालासोपारा विधानसभा अध्यक्ष दिनेश कांबले ,बोईसर विधान सभा अध्यक्ष विनोद गायकवाड़, महानगर पालिका अध्यक्ष अमर रत्ना खंडागले, कोषाध्यक्ष अजय जाधव आदि पदाधिकारी मुख्य रूप से उपस्थित थे|

15 नवंबर 1875 में आदिवासी के परिवार में हुआ था जन्म

ज्ञात हो कि पालघर जिला आदिवासी बाहुल्य क्षेत्र है| जिले में ८ तहसील है, जिनमें पालघर, वाडा, विक्रमगढ़ , जव्हार, मोखाडा, डहाणू , तालसरी और वसई आदि आते है। इन आठ तहसील में ६ तहसील आदिवासी बाहुल्य है। जिले का अधिकांश क्षेत्र दुर्गम पहाड़ियों, घने जंगलों और दूर- दूर तक फैले गांवों व पाड़ों में फैला हुआ है। जिले में 15 नवंबर को क्रांत्रिकारी और आदिवासियों के महानायक बिरसा मुंडा की जयंती मनायी गयी| इस अवसर बहुजन समाजपार्टी की ओर से आदिवासी गांवों व पाड़ों में बाईक रैली के माध्यम से महानायक के विचारों को पहुंचाया गया| बिरसा मुंडा का जन्म 15 नवंबर 1875 को झारखंड के आदिवासी परिवार में हुआ था| उनके द्वारा आदिवासियों के विकास के लिए सामाजिक,आर्थिक और राजनीतिक स्तर पर विशेष ध्यान दिया गया| उनकी मेहनत रंग लायी और आदिवासी अपने राजनीतिक अधिकारों के प्रति सजग हुए। ब्रिटिश हुकूमत ने इसे खतरे का संकेत समझकर बिरसा मुंडा को गिरफ्तार कर उन्हें  जेल में डाल दिया। वहां अंग्रेजों ने उन्हें धीमा जहर दिया, जिसके कारण वे 9 जून 1900 को शहीद हो गए।

Share