9 वर्षों की सुनवाई के बाद कोर्ट का अहम फैसला, बैंक चोरी मामले में आरोपी को जेल की सजा और लगाया जुर्माना…

0
166
सरकारी वकील बलवी और महिला पुलिस सिपाई डोंगरे आदि की ओर से पुख्ता सबूत
9 वर्षों की सुनवाई के बाद कोर्ट का अहम फैसला
Share

सरकारी वकील बलवी और महिला पुलिस सिपाई डोंगरे आदि की ओर से पुख्ता सबूत

– NDI24 नेटवर्क 
पालघर. वानगांव पुलिस स्टेशन अंतर्गत बैंक चोरी मामले में 9 वर्षों तक चली बहस के बाद कोर्ट ने आरोपी को जेल की सजा सुनाई है। कोर्ट ने अपने फैसले में आरोपी को 3 वर्ष की सश्रम कारावास के साथ ही पांच हजार रुपये का दंड के रूप में जुर्माना लगाया है। उक्त मामले में सरकारी वकील बलवी और महिला पुलिस सिपाई डोंगरे आदि की ओर से पुख्ता सबूत तथा आरोपी को सजा दिलाने में जोरदार वकालत की गयी। ज्ञात हो कि वानगांव स्टेशन पाडा क्षेत्र में सुनील बाबू सावे (31) रहता है। 8 मई 2009 को जनता सहकारी को.ऑप.बैंक लि. वानगांव शाखा में 10.45 बजे के आसपास एक चोरी की घटना हुई थी| इस दरम्यान डुप्लीकेट चॉबी से बैंक की तिजोरी से 5,70,393 रुपये की चोरी की गयी थी।

दंड के रूप में जुर्माना…

बैंक चोरी मामले में वानगांव पुलिस ने भादंसं की धारा 454, 457,380 के तहत मामला दर्ज किया गया था। मामले की छानबीन सहायक पुलिस निरीक्षक दत्ता चव्हाण कर रहे थे। चव्हाण द्वारा बैंक चोरी मामले में आरोपी के खिलाफ पुख्ता सबूत के साथ 5,65,380 रुपये की राशी भी जप्त किया गया था। इसके बाद सहायक पुलिस निरीक्षक की ओर से आरोपी सुनील बाबू सावे को पालघर कोर्ट में पेश किया गया। 9 वर्षों की लंबी सुनवाई और तमाम गवाहों व सबूत के आधार पर कोर्ट ने बैंक चोरी मामले में सुनील को दोषी पाया। और उसे तीन वर्ष का सश्रम कारावास के साथ ही पांच हजार रुपये का दंड के रूप में जुर्माना भी सुनाया है।

Share