गढ़चिरौली में चालक समेत C 60के 16 जवान शहीद, शरद पवार ने मांगा मुख्यमंत्री से इस्तीफा…

0
29
घायलों को गढ़चिरौली और नागपुर के अस्पतालों में कराया गया भर्ती, शहीदों की बढ़ सकती है संख्या : गिरीश महाजन
गढ़चिरौली में चालक समेत C 60के 16 जवान शहीद
Share

घायलों को गढ़चिरौली और नागपुर के अस्पतालों में कराया गया भर्ती, शहीदों की बढ़ सकती है संख्या : गिरीश महाजन

– NDI24 नेटवर्क

मुंबई. महाराष्ट्र में लेबर दिवस के दिन नक्सलियों ने गढ़चिरौली में दो वाहनों पर हमला किया। यह घटना गढ़चिरौली के कुरखेड़ा तालुका में जांभूलखेड़ा गांव के पास हुई। शुरुआती जानकारी में पता चला है कि हमले में चालक समेत C 60 के 16 जवान शहीद हो गए। पुलिस के ऊपर नक्सली हमला के दौरान पुलिस के दोनों वाहनों में 25 सैनिक थे, जबकि अन्य घायल सैनिकों को गढ़चिरौली और नागपुर के अस्पताल में भेज दिया गया है। वहीं पुलिस को अतिरिक्त मदद देने के लिए भी कहा गया है। वहीं वही कानून व्यवस्था के मुद्दे पर राकपा चीफ शरद पवार ने मुख्यमंत्री से इस्तीफे की मांग की है।

बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है घटना : मुनगंटीवार…

विदित हो कि पुलिस और नक्सलियों के बीच चल रहे भिड़ंत का नतीजा है। वहीं राज्य के मंत्री सुधीर मुनगंटीवार ने जानकारी दी है कि हमले में चालक सहित 16 लोग मारे गए और नक्सलियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी, जबकि मंत्री गिरीश महाजन की मानें तो शहीदों की संख्या बढ़ने की आशंका है। मुनगंटीवार ने नक्सलियों की निंदा करते हुए कहा कि यह घटना बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है। 23 मई तक तीन और चरणों में मतदान होना है, तब तक लोग वोट डालने निकलेंगे। यह सब लोकतंत्र की जीत के लिए किया जा रहा है। दूसरी ओर नक्सली लाल रक्त क्रांति के बारे में सोच रहे हैं। यह चिंता का विषय है। महाराष्ट्र में पूरे नक्सलवाद को जड़ से उखाड़ फेंकना हमारे लिए एक चुनौती है। इस चुनौती को सफलतापूर्वक पूरा करने की आवश्यकता है। यह मुट्ठी भर लोगों द्वारा लोकतंत्र को खत्म करने का प्रयास है।

दैनीय हालत में पहुंच गई कानून व्यवस्था : पवार…

आमतौर पर गढ़चिरौली लोकसभा चुनाव में नक्सलियों के आह्वान के बाद भी बड़ी संख्या में वोटिंग की गई। उसी गुस्से के परिणामस्वरूप नक्सलियों ने उनकी गाडिय़ों को जला दिया। वहीं पुलिस विभाग ने जानकारी देते हुए बताया कि  वाहनों को पूरी तरह से बम से उड़ा दिया गया है। वहीं घटना को लेकर राकांपा चीफ शरद पवार ने राज्य के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस पर सवाल उठाते हुए टिप्पणी की है कि सीएम को तुरंत इस्तीफा दे देना चाहिए, क्योंकि गृह मंत्रालय उनके पास में है और उनके कार्यकाल में राज्य में कानून व्यवस्था की हालत दिन-प्रतिदिन दैनीय होती जा रही है। मुख्यमंत्री को घटना की जवाबदारी लेते हुए तुरंत इस्तीफा दे देना चाहिए।

Share