जेईई में 24 छात्रों को मिले 100 प्रतिशत अंक, पुणे के राज अग्रवाल, अंकित मिश्रा और कातिज़्केय गुप्ता ने बढ़ाया राज्य का मान…

0
18
8 लाख 81 हजार 96 छात्रों ने दी परीक्षा, बेहतर अंक प्राप्त करने वाले करीब 2 लाख 24 हजार छात्र
जेईई में 24 छात्रों को मिले 100 प्रतिशत अंक, पुणे के राज अग्रवाल
Share

8 लाख 81 हजार 96 छात्रों ने दी परीक्षा, बेहतर अंक प्राप्त करने वाले करीब 2 लाख 24 हजार छात्र

– NDI24 नेटवर्क

मुंबई. राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी (एनटीए) की ओर से आयोजित अप्रैल के जेईई मुख्य परीक्षा का रिजल्ट सोमवार देर रात घोषित किया गया। जनवरी और अप्रैल में हुई परीक्षाओं में 24 छात्रों ने 100 प्रतिशत नंबर अर्जित किए। ऐसा पहली बार ही एनटीए की तरफ  से एग्जाम लिए गए, जिसकी परीक्षा 14-16 अप्रैल हुई। जनवरी में 3 विद्यार्थियों ने 100 प्रतिशत अंक प्राप्त किए थे। अप्रैल में हुई परीक्षा में राज्य के एक भी विद्यार्थी ने 100 प्रतिशत अंक हासिल नहीं किया। पुणे के राज अग्रवाल, अंकित कुमार मिश्रा और कार्तिकेय गुप्ता अप्रैल की परीक्षा में अव्वल रहे। जेईई मेंस परीक्षा के जरिए आईआईटी, एनआईटी जैसे संस्थानों में इंजीनियरिंग के प्रवेश के लिए विद्यार्थियों को चुना जाता है। मेंस में जो क्लियर होंगे, उन्हें एडवांस परीक्षा देनी होती है।

8 लाख 81 हजार 096 विद्यार्थियों ने दी थी परीक्षा…

उसमें माक्र्स के अनुसार, विद्यार्थियों को प्रवेश मिलता है। इसमें से जिस परीक्षा में ज्यादा माक्र्स होंगे, उसे दूसरी बार के लिए अग्निपरीक्षा नहीं देनी पड़ती है। जनवरी और अप्रैल दोनों परीक्षाओं में से सर्वोत्तम अंक प्राप्त करने वाले करीब 2 लाख 24 हजार विद्यार्थी एडवांस के लिए पात्र माने जाएंगे। अभी इस परीक्षा के लिए देश भर से 8 लाख 81 हजार 096 विद्यार्थियों ने परीक्षा दी। टोटल 6 लाख 08 हजार 440 ने अप्रैल और जनवरी दोनों में एग्जाम दिया था। दोनों एक्जाम देने से फायदा हुआ, जिसमें 2 लाख 97 हजार 932 के माक्र्स बढ़े। देश भर में 100 प्रतिशत अंक मिलने वालों में राजस्थान और तेलंगाना से प्रत्येक चार, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश से प्रत्येक तीन, आंध्र प्रदेश, यूपी, हरियाणा से प्रत्येक दो, झारखंड, पंजाब, कर्नाटक, दिल्ली से प्रत्येक 1 विद्यार्थी शामिल हैं। 
कट ऑफ  प्रतिशत…

  • ओपन कैटेगरी 89.75
  • आर्थिक दृष्टि से कमजोर 78.21
  • बैकवर्ड क्लास 74.31
  • अनुसूचित जाति 54.04
  • अनुसूचित जनजाति 44.33
Share